Bure Kaam Ka Bura Nateeja | बुरे काम का बुरा नतीजा | Best Story 2023

“बुरे काम का बुरा नतीजा” ( Bure Kaam Ka Bura Nateeja )  यह एक हिंदी कहावत है जो कि इस बात को दर्शाती है कि अगर हम बुरे काम करते हैं तो हमें उससे बुरा ही नतीजा मिलेगा। यह कहावत व्यक्ति को उसके कार्यों के फल के बारे में सोचने पर मजबूर करती है।

यह हमें यह समझाता है कि हमें हमेशा ईमानदार, नैतिक और उचित कार्य करने चाहिए। अगर हम बुरे काम करते हैं तो हमें उससे बुरे नतीजे झेलने पड़ सकते हैं, जो हमारे जीवन में बहुत ही नुकसानदायक हो सकते हैं।

इस कहावत का महत्व व्यक्ति को उसके कार्यों के लिए जिम्मेदार बनाता है। यह हमें याद दिलाता है कि हमें हमेशा ईमानदार, सत्यनिष्ठ और नैतिक होना चाहिए। हमें अपनी कार्यों के नतीजों को सोचना चाहिए और यह सुनिश्चित करना चाहिए कि हम जो कार्य कर रहे हैं, उससे दूसरों को कोई नुकसान नहीं पहुंच रहा है।

इस कहावत का महत्व आज के समय में भी बरकरार है। बुरे कामों से जुड़ी गतिविधियों के चलते देशों, समाजों और व्यक्तियों को नुकसान पहुंचता है। इसलिए, हमें अपने कार्यों के फलों को सोचना चाहिए और समाज के लिए सकारात्मक नतीजों के लिए अपने योगदान को संबोधित करना चाहिए।

Bure Kaam Ka Bura Nateeja कहानी

एक गांव में राजा राज करता था जो अपनी ताकत के बल पर अपनी मनमानी करता था। उसने गांव में रहने वाले लोगों को अपनी मर्जी के अनुसार उन्हें परेशान करता रहता था। वह बच्चों से लेकर बड़ों तक सभी को कष्ट देता था।

उसका जब मन किया किया किसी की जमीन ले ली, किसी की फसल ले ली। उसके व्यवहार से सारे गावं वाले परेशान थे। पर वो राजा था तो कोई भी उसका कुछ नहीं कर सकता था।

एक दिन, राजा ने गांव में एक निर्धन आदमी के साथ अनुचित व्यवहार किया। उसने उस आदमी की जमीन जबरजस्ती अपने नाम कर ली अब उस गरीब के पास खेती के लिए जमीन नहीं थी। इसलिए मजबूरी में वो दूसरे के खेत में काम करने लगा और उससे अपने परिवार का खर्चा चलता था।

कुछ ही दिन बीते थे की राजा के जीवन में अचानक एक दिन बहुत बदलाव आया। राजा बीमार हो गया था। उसने अपने समस्या को दूर करने के लिए अनेक वैद्य को बुलाया, लेकिन उन सभी की दवाई काम नहीं आई।

एक दिन एक बहुत नामी वैद्य राजा के पास आया और राजा का इलाज करने लगा पर उसकी दवाई का भी राजा पे कोई असर नहीं हुआ तो उस वैद्य राजा को बताया ये आपकी बीमारी दवाई से ठीक नहीं होगी। इस बीमारी का कारण है आपके द्वारा किया गया अपराध

वैद्य ने राजा से कहा कि अगर वह उस निर्धन आदमी से माफी मांगता है तो उसकी बीमारी ठीक हो सकती है। राजा ने वैद्य की सलाह मानी और उस निर्धन आदमी से माफी मांगी। उसने उस आदमी की जमीन उसे वापस कर दी।

राजा माफ़ी मांगे और उसकी जमीन वापस देने के बाद बहुत अच्छा महसूस कर रहा था जिसके कारन उसकी बीमारी भी जल्दी ठीक हो गई। राजा को इस बात का एहसास हुआ कि बुरे काम करने से ना केवल अन्य लोगों को हानि पहुंचती है, बल्कि इससे खुद को भी हानि पहुंचती है। ( Bure Kaam Ka Bura Nateeja )

इस घटना के बाद राजा के जीवन में बहुत बड़ा बदलाव आया और उसने फिर से गांव में शांति और उन्नति लाने का संकल्प लिया। उसने अपने अपराधों के लिए लोगों से माफी मांगी।

यह घटना सबक सिखाती है कि बुरे काम करने से ना केवल अन्य लोगों को हानि पहुंचती है, बल्कि इससे खुद को भी हानि पहुंचती है। हमें दूसरों के साथ सद्भावना से व्यवहार करना चाहिए और किसी को भी बुरा नहीं करना चाहिए।

बुरा करने से सभी को नुकसान होता है, इसलिए हमें समझना चाहिए कि दूसरों की मदद करने से हम खुद के लिए भी बेहतर अवसर बनाते हैं।इस गांव की घटना ने राजा ने  उन्नति और समृद्धि का संकल्प लिया और सभी लोगों के साथ मिल के गावं का विकाश और जरूरत मंद की मदद करने लगा।

कहानी से सीख : इस कहानी से हमें सीख मिलती है कि बुरा करने से बुरा होता है और अगर हम सभी एक दूसरे के साथ समझदारी और सद्भावना से व्यवहार करेंगे तो हम एक बेहतर समाज का निर्माण करेंगे।

अवलोकन – rshindi.com के द्वारा बताई गई, बुरे काम का बुरा नतीजा” ( Bure Kaam Ka Bura Nateeja )  कहानी आपको कैसी लगी हमें comment कर के जरूर बताये।

आप हमें Facebook में भी follow कर सकते है।

Leave a Comment