मन के हारे हार, मन के जीते जीत | Man Ke Hare Har Man Ke Jeete Jeet Best Story 2023

Man Ke Hare Har Hai Man Ke Jeete Jeet Ka Arth

मन के हारे हार है, मन के जीते जीत ( Man Ke Hare Har Hai Man Ke Jeete Jeet )। यह एक कहावत है जो मन की महत्वपूर्णता और प्रभाव को दर्शाती है। इस कहावत में कहा गया है कि यदि हमारा मन हार ले, तो हमारी हार निश्चित है, और यदि हमारा मन जीत ले, तो हमारी जीत पक्की है।

मन एक शक्तिशाली तत्व है जो हमारे सोच, भावनाएं, और क्रियाएं नियंत्रित करता है। जब हमारा मन निराशा, निरामयता, या अस्थायी सुख की ओर मुड़ता है, तब हम हार जाते हैं।

हालांकि, जब हमारा मन सकारात्मकता, संघर्ष, और समर्पण की ओर सोचता है, तब हम जीतते हैं। मन के विचार और भावनाएं हमारे कार्यों को प्रभावित करती हैं और हमारे जीवन के परिणामों को निर्धारित करती हैं।

यदि हम मन को स्वाधीन करें, तो हम अपने लक्ष्यों की ओर प्रगति कर सकते हैं और जीवन में सफलता प्राप्त कर सकते हैं। वही, यदि हम मन को अनियंत्रित छोड़ दें, तो हम संघर्ष में फंस सकते हैं और अपने लक्ष्यों से दूर हो सकते हैं।

इसलिए, मन को नियंत्रित करना हमारे जीवन के लिए महत्वपूर्ण है। हमें अपने विचारों को सकारात्मक, प्रेरणादायक और संघर्षपूर्ण रखने का प्रयास करना चाहिए। हमें स्वयं को स्वाधीन करने और मानसिक स्थिरता को विकसित करने के लिए ध्यान का अभ्यास करनी चाहिए।

Man Ke Hare Har Hai Man Ke Jeete Jeet Ki Kahani

कहानी

बहुत समय पहले की बात है, एक छोटे से गांव में एक लड़का रहता था। वह बहुत ही प्यारा और बुद्धिमान था, लेकिन उसके मन में अक्सर किसी भी काम को करने को लेकर डर बना रहता था। उसके मन में बड़ी बड़ी आकांक्षाएं थीं, लेकिन वह बार-बार असफल हो जाता था।

एक दिन, उसे एक वृद्ध संत मिले। संत ने उसके मन की हालत को समझा। संत ने कहा, “बच्चा, जब तुम अपने मन को हार मान लेते हो, तब तुम अपनी हार का अनुभव करते हो। लेकिन जब तुम अपने मन को जीतते हो, तो तुम खुद को जीतते हो।”

फिर संत ने उसके एक कहानी सुनाई, दो राज्य अक्सर आपस में लड़ाई किया करते थे पर जीत का नतीजा कभी नहीं निकलता था, क्यों की दोनों ही राज्य बहादुरी और सेना के मामले में एक बराबर थे।

एक दिन एक राज्य ने अपने पडोसी राज्य से मित्रता कर के दूसरे राज्य पे आक्रमण कर दिया। दूसरे राज्य का राजा सामने इतनी बड़ी सेना देख के डर गया। नतीजा ये हुआ की दूसरा राज्य पराजित हो गया।

उस राज्य का राजा जैसे तैसे अपनी जान बचा के जंगलो में भाग गया। वह अपनी हार से हतास हो गया था। उसकी सेना नष्ट हो गई थी। वापस वो अपने राज्य को कैसे जीत पाए इसका उसे कोई उपाय नहीं सूझ रहा था।

एक दिन वह हतास – परेशान होकर गुफा में बैठा हुआ था, तभी उसे एक मकड़ी दिखाई दी, जो की जाला बनाई गई थी। वह मकड़ी उस गुफा के ऊपरी हिस्से में एक पत्थर तक चढ़ने की कोशिश कर रही थी।

मगर वह मकड़ी जैसे ही ऊपर चढ़कर उस पत्थर पर धागा लगाने की कोशिश करती, फिसल के नीचे गिर जाती थी। इसी तरह वह बार-बार गिरी मगर अपनी कोशिश जारी राखी, कई बार कोशिश करने के बाद वह मकड़ी जाला लगाने में सफल हो गई।

मकड़ी के धैर्य, प्रयास और सफलता को देखकर, दूसरे देश के राजा उत्साह से भर गए। उन्होंने सोचा कि अगर यह छोटी सी मकड़ी लगातार प्रयास करने के बाद आखिरकार सफल हो गई, तो मैं मनुष्य होकर हिम्मत क्यों छोड़ दी।

अगर मैं भी लगातार कोशिश करता रहूं तो मुझे भी सफलता मिल जाएगी, और मैं अपने राज्य को वापस प्राप्त कर लूंगा। वह गुफा से बाहर आए और अपने राज्य के लोगों को इकट्ठा करने लगे, और उन लोगों में उत्साह भरने लगे।

धीरे-धीरे उन्होंने एक सेना बनाई और अपनी उस छोटी सेना की मदद से ही उन्होंने दुश्मन राज्य पे हमला कर दिया, और राजा को हराकर अपने राज्य को वापस प्राप्त कर लिया।

उन्होंने अपने मन में ठान लिया था कि मुझे जीतना ही है, किसी भी हाल में। क्योंकि वह अच्छी तरीके से समझ गए थे कि मन के हारे हार, मन के जीते जीत।

अवलोकन – rshindi.com के द्वारा बताई गई, ( Man Ke Hare Har Hai Man Ke Jeete Jeet) मन के हारे हार है, मन के जीते जीत की कहानी आपको कैसी लगी हमें comment कर के जरूर बताये।

आप हमें Facebook में भी follow कर सकते है।

Leave a Comment